- विज्ञापन -
Home Trending UP Lok Sabha Elections 2024: सपा-कांग्रेस पर पीएम मोदी का ‘खटाखट’ तंज,...

UP Lok Sabha Elections 2024: सपा-कांग्रेस पर पीएम मोदी का ‘खटाखट’ तंज, फतेहपुर-हमीरपुर में चुनावी जनसभा को किया संबोधित

UP Lok Sabha Elections 2024: लोकसभा चुनाव के पांचवें चरण में उत्तर प्रदेश की 14 सीटों के लिए 20 मई को मतदान किया जाएगा। इसके लिए पीएम मोदी (PM Modi Rally) शुक्रवार को हमीरपुर (Hamirpur) और फतेहपुर (Fatehpur) में जनसभाओं को संबोधित करने पहुंचें। यह रैली बुंदेलखंड की लोकसभा सीटों को देखते हुए बेहद अहम मानी जा रही है। पीएम नरेंद्र मोदी ने फतेहपुर में केंद्रीय मंत्री और बीजेपी प्रत्याशी साध्वी निरंजन ज्योति के पक्ष में जनसभा की।

- विज्ञापन -

मदारीपुर गांव के पास एयरपोर्ट मैदान से पीएम मोदी ने कहा, कांग्रेस-सपा चारों खाने चित्त हो गई है। मैं आपको अंदर की बात बताता हूं, मैं पक्की खबर के बाद ही भीतर की बात कहता हूं। आपको पता है कि मैंने कहा था कि ये शहजादे केरल के वायनाड से भागेंगे। देखिए भागे कि नहीं भागे। मैंने कहा था कि वो अमेठी की तरफ जाने की हिम्मत भी नहीं करेंगे। खबर पक्की निकली।

अब आगे की खबर ये है कि इज्जत बचाने के लिए कांग्रेस ने मिशन-50 रखा है। मिशन-50 यानी की कांग्रेस ने पिछले चार दिनों में बहुत माथापच्ची की और उन्होंने आदेश दिया कि कुछ भी करो, आकाश-पताल एक कर दो। बस कांग्रेस को 50 सीटें मिल जाएं। इसके लिए अब वो हाथ पैर मार रहे हैं। इसलिए भानूमति के कुनबे में हवा भरने की कवायद हो रही है।

‘पंजे और साइकिल के सपने खटाखट टूट गए’

उन्होंने कहा कि अब जिस गाड़ी का टायर पहले से ही पंचर हो। वो कितना आगे जाएगी। एक न एक दिन इनका भट्ठा बैठना था और ये बैठ गया है। आपको पता है कि इनकी हालत कैसी हो गई है? पंजे और साइकिल के सपने खटाखट-खटाखट टूट गए हैं। अब चार जून के बाद की तैयारी हो रही है कि हार का ठीकरा किस पर फोड़ा जाए-खटाखट, खटाखट। मुझे तो कोई बता रहा था कि विदेश यात्रा का टिकट भी खटाखट-खटाखट बुक हो गया है।

‘हर चुनाव में दो लड़कों की जोड़ी लॉन्च होती है’ (UP Lok Sabha Elections 2024)

पीएम ने इंडिया एलायंस पर तंज कसते हुए कहा कि साथियों यूपी में कांग्रेस का कोई वजूद नहीं है। पूरी कांग्रेस परिवार की इज्जत बचाने में लगी हुई है। लेकिन, फिर भी हर चुनाव में दो लड़कों की जोड़ी लॉन्च हो जाती है। क्योंकि कांग्रेस और सपा दोनों की कुंडली मिलती है। सारे खून मिलते हैं। ये दोनों परिवारवाद को समर्पित हैं।

दोनों भ्रष्टाचार के लिए राजनीति में हैं। दोनों अपने वोट बैंक को खुश करने के लिए कुछ भी कर सकते हैं। दोनों आतंकवादियों के उतने ही हमदर्द भी हैं। सपा-कांग्रेस जब सत्ता में आती है तब आतंकवादियों को खुली छूट मिल जाती हैं। उनके गवर्नेंस का एजेंडा यही था कि वन डिस्ट्रिक्ट वन माफिया। ये लोग एक माफिया को पूरा जिला देते हैं। हत्या-मारपीट शुरू हो जाता है। ये रंगदारी वसूलते हैं। बहन-बेटियों का घर से निकलना बंद हो जाता है।

सपा-कांग्रेस पर जमकर बरसे पीएम मोदी 

आप लोगों ने वो दिन देखे हुए हैं, लेकिन जब से योगी और हमारे केशव जी की सरकार आई है। तब से ये माफिया माफी मांगते घूम रहे हैं। इनके मुखिया माफिया की कब्र पर फातिहा पढ़ते घूम रहे हैं। इनका माफिया प्रेम अभी खत्म नहीं हुआ है। साथियों ये लोग आतंकवाद का आरोप किस पर लगाते हैं।

ये लोग भगवा आतंकवाद कहते थे। सपा के लोग हेलिकॉप्टर से दंगाइयों से मिलने जाते थे। सपा-कांग्रेस को लगता है कि हमारे समाज को तोड़कर अपना काम बना लेंगे। इसलिए इनके हौसले बढ़ गए हैं। कांग्रेस के शहजादे राम मंदिर पर ताला लगवाने की बात कहते हैं। सपा के बड़े नेता बोलते हैं कि राम मंदिर बेकार है।

‘सत्ता में आकर सनातन का विनाश करना गठबंधन का मकसद’

इनके गठबंधन (UP Lok Sabha Elections 2024) के लोग कहते हैं- कि वे सत्ता में आकर सनातन धर्म का विनाश कर देंगे। आप मुझे बताइए ये लोग आपके एक भी वोट के हकदार हैं क्या। इन्हें एक भी वोट देना चाहिए क्या। इनकी तो जमानत भी जब्त हो जानी चाहिए। सपा सरकार में यूपी अपराध में टॉप पर था। विकास में यूपी की गिनती पिछड़े राज्यों में टॉप पर थी। लेकिन अब भाजपा सरकार ने यूपी को विकास की लिस्ट में टॉप कर दिया है। आज सबसे ज्यादा एक्सप्रेस वे यूपी में हैं।

‘बुंदेलखंड में पहले गर्मी में पानी की ट्रेनें चलानी पड़ती थी’

चुनौती से जो टकराता है, वही तो मोदी कहलाता है। पौने दो लाख घरों में मिशन नमामि गंगे तहत कनेक्शन दिया जा चुका है, जो समस्याएं हैं उन पर काम चल रहा है। हमारी सरकार ने केन बेतवा लिंक परियोजना के लिए काम शुरु कर दिया है। आप को पानी मिले इसके लिए हमारी सरकार 40 हजार करोड़ से ज्यादा खर्च कर रही है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि बुंदेलखंड में पहले गर्मी में पानी की ट्रेने चलानी पड़ती थी। पहले लोग कुएं से पानी निकालने के लिए धक्का-मुक्की करते थे। गुजरात में यहां के लोग रहते थे उनकी पीड़ा सुन आंखों में आंसू आ जाते थे। चुनौती को चुनौती देना उसका दूसरा नाम है मोदी।

- विज्ञापन -
Exit mobile version