spot_img
Tuesday, June 25, 2024
-विज्ञापन-

More From Author

Summer Car Care: गमी के मौसम में अपने कार की ऐसे करें देखभाल, अपनाएं ये टिप्स

Summer Car Care: भारत के ज्यादातर हिस्सों में गर्मी शुरू हो गयी है और ऐसे में चिलचिलाती धूप हमे काफी नुक्सान पहुँचती है और साथ ही साथ हमारे वाहनों को भी बहुत नुकसान पहुंचाती है। गर्मी के मौसम में वाहनों का रखरखाव (Vhichles Care) का बड़ी चुनौती है। अगर आपके पास भी कार है और भी अपनी कार की आयु लंबे समय तक रखना चाहते हैं, तो उसके लिए हम आपको कुछ टिप्स बता रहे हैं।

केबिन को ठंडा रखना

तेज धुप के मौसम में अपनी कार को हमेशा छाया में ही पार्क करना चाहिए और खिड़कियों को क्रॉस-वेंटिलेशन में थोड़ा नीचे रखें, जिससे केबिन से गर्म हवा बाहर निकल सकें। अगर कार छाया में पार्क करना संभव न हो तो खिड़कियों पर सन शेड लगाएं। इसके अलावा कार की पिछली खिड़की पर भी सनशेड का यूज करें।

अपने एसी की सर्विस कराएं

गर्मी के मौसम में कार के एसी (AC) पर सबसे ज्यादा लोड होता है। इसलिए गर्मी के मौसम में एसी ठंडक देती है और इसके साथ ही उसमे धूल और गंदगी भी भर जाती है, इसलिए गर्मी से पहले अपनी कार की एसी को ठीक करवा लें।

 

अपने रेडिएटर की सर्विस करवाएं

गर्मी के मौसम में सभी को तरल पदार्थों की निरंतर आपूर्ति की आवश्यकता होती है और एक अच्छी क्वालिटी वाला शीतलक आपकी कार को गर्मी से बचाता है। गर्मी में ज्यादातर वाहन खराब होने का सबसे बड़ा कारण इंजन का कम शीतलक होना होता है।

 

इंजन और ट्रांसमिशन पदार्थ की जाँच करें

कार का इंजन (Engine) गर्मी में तेजी से गर्म होता है, जिस कारण कुछ भी हो सकता है। इसलिए अपने इंजन-ऑयल के स्तर की जांच नियमित रूप से करें और इसे सही तेल से टॉप अप करवाएं। इसके अलावा आप इंजन के तेल को भी निकाल सकते हैं और ज्यादा गर्मी में गर्मी प्रतिरोधी ग्रेड का यूज कर सकते हैं। पावर स्टीयरिंग, ब्रेक और ट्रांसमिशन यूनिट के फ्लूइड लेवल की भी जांच भी समय पर करवाते रहना चाहिए।

 

होसेस और बेल्ट

कार में यूज होने वाले होज़ और बेल्ट (Hose and Belt) जैसे पुर्जे असाधारण होते हैं, जो आमतौर पर रबर के बने होते हैं। रबर की कोई चीज एक बार सख्त हो जाएं तो उसके फटने का डर रहता है। इसलिए गर्मी के मौसम में क्लैम्प और क्लिप की जांच करते रहना चाहिए।

 

बैटरी की देखभाल

बैटरी (Bettry) कार में यूज होने वाला सबसे जरूरी पार्ट होती है और ज्यादा गर्मी में बैटरी अंदर का द्रव तेजी से वाष्पित हो जाता है। यह बैटरी के अंदर रासायनिक प्रतिक्रिया को भी तेज कर देता है, जिससे ओवरचार्जिंग हो जाती है। इस बात की जांच करते रहना चाहिए, कि क्या बैटरी सही दर पर चार्ज है या नहीं। इसके अलावा बैटरी को गंदगी से मुक्त हैं और सभी केबल कनेक्शन सुरक्षित करने चाहिए।

Latest Posts

-विज्ञापन-

Latest Posts