spot_img
Monday, April 15, 2024
-विज्ञापन-

More From Author

Mayawati के जन्मदिन पर क्या है इस ‘पोस्टर’ का राजनीतिक संदेश?

UP की राजनीतिक गलियारों में BSP सुप्रीमों Mayawati का जन्मदिन राजनीतिक चर्चा का खासा केंद्र रहता है। 15 जनवरी को इस बात पर नजर रहती है कि जन्मदिन के मौके पर मायावती के साथ कौन-कौन नजर आ रहा है। वैसे तो पिछले कई सालों से मायावती अपना जन्मदिन बहुत ही सादगी से मना रही हैं।

इस बार लोकसभा चुनाव की गहमागहमी के बीच यूपी के बलिया जिले से बीएसपी सुप्रीमों के जन्मदिन पर एक पोस्टर जारी हुआ है। राजनीतिक गलियारों में इस पोस्टर की चर्चा लखनऊ से लेकर दिल्ली तक है। दरअसल इस पोस्टर में पीले रंग की पट्टी में ऊर्दू से लिखा गया है। बाकी पूरा पोस्टर बसपा के चुनाव चिन्ह वाला रंग नीला ही है।

इस पोस्टर के कई सियासी मायने निकाले जा रहे हैं। माना जा रहा है कि पीले रंग पट्टी के जरिए सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर को संदेश देने की कोशिश की गई है। जो इस समय एनडीए गठबंधन का हिस्सा हैं और अभी तक वो मंत्री पद पाने का इंतजार कर रहे हैं।

ओम प्रकाश राजभर कभी बीएसपी के भी नेता रह चुके हैं। ओपी राजभर का जिस वोट बैंक के नेता होने का दावा करते हैं वो यूपी की कई सीटों पर खेल बिगाड़ने और बनाने की ताकत रखता है। बता दें कि ओपी राजभर कुछ दिन पहले ही मायावती को प्रधानमंत्री बनाने की भी अपील कर चुके हैं।

“OP Rajbhar अब भी BSP के अंग”

इस पोस्टर पर बीएसपी के बलिया जिलाध्यक्ष ने चौंकाने वाली बात कही है। उनका कहना है कि ओमप्रकाश राजभर बीएसपी से अलग नही हैं वह भी बहुजन समाज के ही अंग हैं। बदलते राजनीतिक समीकरणों के बीच बीएसपी का ओपी राजभर पर डोरे डालना बीजेपी को रणनीतिकारों को चिंता में डाल सकता है खासकर अमित शाह को जो यूपी में पार्टी के लिए समीकरण तैयार करने की जिम्मेदारी रखते हैं। कुछ दिन पहले ही गृहमंत्री अमित शाह ने ओपी राजभर से मुलाकात भी की थी। ऐसे में अब राजभर किस ओर हैं फिलहाल ये तय करना मुश्कील है। वैसे राजभर पलटी मारने में उस्ताद हैं। वो कभी भी पलटी मार सकते हैं और अपना राजनीतिक समीकरण किसी भी पार्टी के झोले में डाल कर दूसरी पार्टी के लिए मुश्कीलें खड़ी कर सकते हैं।

Latest Posts

-विज्ञापन-

Latest Posts