spot_img
Monday, May 27, 2024
-विज्ञापन-

More From Author

दोपहर की नींद अच्छी होती है या बुरी?

Afternoon Nap: दोपहर में खाने के बाद नींद आना स्वाभाविक है। जब हम दोपहर में खाना खाते हैं तो पाचन तंत्र में रक्त संचार बढ़ जाता है। इसके कारण मस्तिष्क में रक्त की आपूर्ति कम हो सकती है। इससे नींद और थकान की समस्या हो सकती है। ऐसा भी कहा जाता है कि खाने के बाद शरीर में ग्लूकोज का स्तर बढ़ जाता है। जिसके कारण व्यक्ति अधिक झपकी लेता है। यह एक सामान्य प्रक्रिया है इसलिए चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है, लेकिन अगर आपको रोजाना दोपहर में रोने की आदत हो जाए तो इसका आपकी सेहत पर क्या असर पड़ता है, आइए जानते हैं…

दोपहर में सोना अच्छा है या बुरा?

एक छोटी सी झपकी सतर्कता और उत्पादकता बढ़ाने में मदद कर सकती है। हालाँकि, अगर यह आदत बन जाए तो इसका नकारात्मक प्रभाव भी पड़ सकता है।

दिन में सोने से क्या प्रभाव पड़ता है

दिन के दौरान थोड़ी सी झपकी या नींद याददाश्त में सुधार करने में मदद करती है और शरीर को सक्रिय भी रखती है। हालांकि, अगर यह आदत बन जाए तो आगे चलकर इससे कई नुकसान हो सकते हैं। इसलिए सावधान रहने की जरूरत है। अगर आप दिन में बहुत देर तक सोते हैं तो इससे गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं।

दिन में सोना चाहिए या नहीं?

जो वयस्क दिन में देर तक सोते हैं उनमें हृदय रोग, डायबटिज और अवसाद जैसी समस्याओं का खतरा अधिक होता है। दिन में सोने का मतलब है कि आपको रात में पर्याप्त नींद नहीं मिल रही है, जिससे कई पुरानी बीमारियां बढ़ सकती हैं। इसलिए रात को भरपूर नींद लें। दिन में बहुत देर तक सोने से नींद का चक्र गड़बड़ा सकता है। इसलिए, स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि दिन में हल्की झपकी अच्छी हो सकती है। दिन में कभी भी 20-30 मिनट से ज्यादा नहीं सोना चाहिए। अन्यथा नुकसान हो सकता है।

 

Latest Posts

-विज्ञापन-

Latest Posts