spot_img
Thursday, June 13, 2024
-विज्ञापन-

More From Author

EPF और PPF के अलावा Investment के और भी है रास्ते, ऐसे में SIP में करें निवेश और बनें अमीर

Saving and Investment: आप हर महीने जुटाए गए पैसे से अपनी सुविधा के अनुसार पसंदीदा स्कीम में निवेश कर सकते हैं। यदि आप पेंशन योजना ले रहे हैं तो इसमें न्यूनतम और अधिकतम निवेश राशि तय होगी। हालांकि, म्यूचुअल फंड के मामले में ऐसा नहीं हैं। रिटायरमेंट के लिए आप न्यूनतम पैसे से म्यूचुअल फंड SIP में निवेश शुरू कर सकते हैं। एसआईपी में हर महीने एक निश्चित रकम एक फंड में जमा करनी होती है।

SIP में निवेश क्यों करें?

लेकिन जोखिम के कारण लोग इसमें निवेश नहीं करते हैं। हालाँकि, यदि आप अलग-अलग फंडों का पोर्टफोलियो बनाते हैं, तो जोखिम बहुत कम हो जाता है और रिटर्न भी बढ़ जाता है। म्यूचुअल फंड में 20-30 साल तक निवेश करने और बाद में एसआईपी के जरिए निवेश करने से रिटायरमेंट के लिए अधिक पैसा जोड़ा जा सकता है। देखा जाए तो EPF या PPF की तुलना में म्यूचुअल फंड ज्यादा उपयोगी हैं।

हर कोई चाहता है कि रिटायरमेंट के दौरान उसे आर्थिक दिक्कत न हो और हर महीने समय पर पैसा मिलता रहे। ईपीएफ या पीपीएफ पहला विकल्प है जो दिमाग में आता है, पैसा सुरक्षित रहता है लेकिन रिटर्न अच्छा नहीं मिलता है। अगर आप भी लंबी अवधि के लिए म्यूचुअल फंड में निवेश करते हैं तो अच्छा पैसा कमा सकते हैं।

मान लीजिए कि आपकी उम्र 30 साल है और आपने 10,000 रुपये से मासिक एसआईपी शुरू की है। आप 12 प्रतिशत रिटर्न की दर पर 30 साल तक पैसा जमा करते हैं। जब आप 60 साल के हो जाएंगे तो आपकी बचत में 3.50 करोड़ रुपये होंगे। शायद ही कोई योजना हल्के जोखिम के साथ इतना अधिक रिटर्न दे सकती है। रिटर्न के अलावा एसआईपी के कई अन्य फायदे भी हैं।

यह भी पढ़ें: PPF समेत बचत योजनाओं में निवेश करने से पहले जान लें नए नियम, सरकार ने नियमों में किया बदलाव

Latest Posts

-विज्ञापन-

Latest Posts