spot_img
Thursday, June 13, 2024
-विज्ञापन-

More From Author

Bharat Tex 2024: प्रधानमंत्री मोदी आज भारत टेक्स-2024 का करेंगे उद्घाटन, 100 से अधिक देश बनेंगे इसका हिस्सा

Bharat Tex 2024: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को दिल्ली के भारत मंडपम में देश में आयोजित होने वाले अब तक के सबसे बड़े वैश्विक कपड़ा कार्यक्रमों में से एक भारत टेक्स – 2024 (Bharat-Tex) का उद्घाटन करेंगे।  पीएम मोदी ने एक्स पर लिखा, यह मंच भारत की जीवंत कपड़ा विरासत और नवाचार को प्रदर्शित करेगा। आइए हम सब मिलकर महत्वपूर्ण कपड़ा क्षेत्र में व्यापार, निवेश और निर्यात के लिए एक उज्जवल भविष्य बुनें।

प्रधानमंत्री  मोदी का है 5F विजन

भारत टेक्स 2024 का आयोजन 26-29 फरवरी तक किया जा रहा है। प्रधानमंत्री के 5एफ विजन से प्रेरणा लेते हुए, इस आयोजन में फाइबर, फैब्रिक और फैशन फोकस के माध्यम से विदेशों में एक एकीकृत फार्म है, जो संपूर्ण कपड़ा मूल्य श्रृंखला को कवर करता है। इसके साथ ही यह कपड़ा क्षेत्र में भारत की शक्ति को प्रदर्शित करेगा और वैश्विक कपड़ा महाशक्ति के रूप में भारत की स्थिति की पुष्टि करेगा।

वहीं, 11 कपड़ा निर्यात संवर्धन परिषदों के एक संघ द्वारा आयोजित और सरकार द्वारा समर्थित, भारत टेक्स 2024 व्यापार और निवेश के दोहरे स्तंभों पर बनाया गया है, जिसमें स्थिरता पर अत्यधिक ध्यान दिया गया है। इस चार दिवसीय कार्यक्रम में 65 से अधिक ज्ञान सत्र होंगे, जिसमें 100 से अधिक वैश्विक पैनलिस्ट इस क्षेत्र से संबंधित विभिन्न मुद्दों पर चर्चा करेंगे।

40,000 से अधिक व्यापारिक आगंतुकों की भागीदारी की उम्मीद

इसमें स्थिरता और परिपत्रता पर समर्पित मंडप, एक ‘इंडी हाट’, भारतीय कपड़ा विरासत, स्थिरता और वैश्विक डिजाइन जैसे विविध विषयों पर फैशन प्रस्तुतियां, साथ ही इंटरैक्टिव फैब्रिक परीक्षण क्षेत्र और उत्पाद प्रदर्शन भी होंगे। भारत टेक्स 2024 में कपड़ा छात्रों, बुनकरों, कारीगरों और कपड़ा श्रमिकों के अलावा नीति निर्माताओं और वैश्विक सीईओ, 3,500 से अधिक प्रदर्शकों, 100 से अधिक देशों के 3,000 से अधिक खरीदारों और 40,000 से अधिक व्यापारिक आगंतुकों की भागीदारी की उम्मीद है।

50 से अधिक समझौता पर हस्ताक्षर होने की उम्मीद

आयोजन के दौरान 50 से अधिक घोषणाओं और समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर होने की उम्मीद है, जिससे कपड़ा क्षेत्र में निवेश और व्यापार को और बढ़ावा मिलेगा और निर्यात को बढ़ाने में मदद मिलेगी। यह प्रधानमंत्री के आत्मनिर्भर भारत और विकसित भारत के दृष्टिकोण को आगे बढ़ाने की दिशा में एक और महत्वपूर्ण कदम होगा।

ये भी पढ़ें- प्रमुख रक्षा उत्पादकों के साथ DRDO ने किए 23 LICENSING समझौते, इन क्षेत्रों में हुई बातचीत, जानें

Latest Posts

-विज्ञापन-

Latest Posts