spot_img
Saturday, May 25, 2024
-विज्ञापन-

More From Author

Animal Movie Review: रणबीर कपूर की एक्टिंग और राइटर की लेखनी का कमाल, एनिमल ने मचाया धमाल

रणबीर कपूर (Ranbir Kapoor) की फिल्म एनिमल (Animal) के ट्रेलर ने जिस तरह से धूम मचाई थी फिल्म ने उससे कहीं आगे बढ़कर धमाल किया है. फिल्म काफी लंबी होने के बावजूद बोरिंग नहीं लगती है. रणबीर ने एक बार फिर अपनी एक्टिंग का लोहा मनवाया है. उनकी एक्टिंग ने साबित किया है कि कोई भी फिल्म का हिट होना उसके लीड पर ही निर्भर करता है. साथ में अनिल कपूर ने भी प्रभावित किया है.

क्या है फिल्म की कहानी?

‘एनिमल’ में रणबीर के लीड किरदार का पूरा यूनिवर्स उसके पापा हैं. वो अपने पापा को बचाने के लिए, पूरी दुनिया तक खत्म करने को तैयार रहता है. मगर उसकी हिंसा में बहुत ‘पैशन’ है. उसे देखकर लगता है कि वो एक मिशन पर है, हर बार वो सिर्फ हिंसा नहीं कर रहा, बल्कि जैसे डेड बॉडी के साथ बाकी दुश्मनों के लिए एक मैसेज छोड़ रहा है. वो अपने पापा पर हमला करने वालों को खत्म तो कर देना चाहता है, लेकिन एक हद के बाद लगता है कि मारना उसका टारगेट है ही नहीं.

उसे हिंसा में स्वाद आ रहा है. वो सिर्फ सामने वाले का खून नहीं बहाता, उसकी हर हत्या बर्बरता की एक पेंटिंग है, जो वो अपने पिता को गिफ्ट कर रहा है! उसके सिर्फ एक्ट में पाशवता नहीं है, वो पशु है. ये ‘एनिमल’ है, जिसे डायरेक्टर संदीप रेड्डी वांगा ने बड़े पर्दे पर क्रिएट किया है. हिंसा के पैशन के मामले में ये हीरो, कई विलेन्स से भी भयानक है. अगर आपको लगता है कि आप फिल्म के हीरो में ये देख सकते हैं, तो ‘एनिमल’ आपके लिए ही है.

रणबीर के बचपन से शुरू होती है फिल्म की कहानी

फिल्म की कहानी रणबीर के बचपन से शुरू होती है, जहां वो पापा के प्यार के लिए तरसता हुआ बच्चा है. उसकी जवानी भी इसी वेलिडेशन की भूखी है. वो बचपन से ही तय किए चल रहा है कि ‘पापा के लिए प्यार’ को वो उस लेवल पर ले जाएगा जो किसी ने सोचा भी नहीं होगा. वो इस खूंखार मिशन पर है और  उसके जीवन में बाकी सबकुछ इस मिशन का ‘पैरेलल डैमेज’. फिल्म का टोन देखकर कहीं कहीं ये भी लगता है कि संदीप का ध्यान ये दिखाने पर भी है कि वेलिडेशन की भूख कितना कुछ डैमेज कर सकती है. ऐसा है या नहीं, ये आप फिल्म देखकर तय करें.

संदीप इस किरदार के ट्रीटमेंट में एक बहुत कमाल की चीज लेकर आए हैं. पापा पर कुर्बान इस बेटे का नाम इंटरवल से पहले तक रिवील ही नहीं होता. सब उसे बलबीर सिंह (अनिल कपूर) का बेटा बुलाते रहते हैं. नाम क्या है, ये भी फिल्म में देखना बेहतर होगा क्योंकि इस नाम को रिवील करने के लिए संदीप ने एक बहुत शानदार इंटरवल ब्लॉक तैयार किया है.

स्कूल में पढ़ने वाला ये लड़का, कॉलेज में पढ़ रही अपनी बहन को प्रोटेक्ट करने के लिए जो करता है वहीं से साफ हो जाता है कि उसके रंग क्या हैं. कोई हैरानी नहीं होती जब अनिल कपूर अपनी पत्नी को बोलते हैं, ‘हमने क्रिमिनल पैदा किया है’.

इस लड़के की लव स्टोरी भी बहुत अनोखी है. गीतांजलि (रश्मिका मंदाना) उसे बचपन से भैया बोलती आ रही है. लड़के ने उसे पहली बार देखा ही उसकी एंगेजमेंट के दिन है. फिर भी प्रपोज ऐसे करता है कि आप हंस पड़ेंगे. हालांकि, उसका लॉजिक घटिया भी लगता है. प्रपोजल में हेल्दी बच्चे पैदा करने की क्षमता पर बात करने के बाद भी गीतांजलि अपनी पहली एंगेजमेंट तोड़कर, इनसे शादी के लिए तैयार हो जाती है.

रणबीर की जानदार एक्टिंग

रणबीर कपूर ने जिस ‘एनिमल’ के विजन में खुद को सरेंडर किया है, वो देखने लायक है. उन्हें इस तरह के हिंसक रोल में सोच पाना लगबग नामुमकिन है, मगर स्क्रीन पर उन्हें देखने के बाद आपको लगेगा कि किसी डायरेक्टर ने पहले ऐसा क्यों नहीं ट्राई किया. उनके एक्सप्रेशन, आंखें, बॉडी लैंग्वेज सबकुछ इस किरदार को उतना ही भयानक बनाते हैं जितना शायद स्क्रिप्ट लिखते हुए संदीप ने सोचा होगा. ‘एनिमल’ को रणबीर के करियर की सबसे बेहतरीन परफॉरमेंस भी कहा जा सकता है.

रश्मिका मंदाना ने जिस तरह शब्द चबा-चबा कर अपने डायलॉग बोले हैं, उससे कहीं-कहीं पर उनकी बात समझने पर एक्स्ट्रा जोर देना पड़ता है. मगर ओवरऑल उनकी परफॉरमेंस भी बहुत सॉलिड है. कुछ सीन्स में जहां उन्हें रणबीर की पत्नी के रोल में, उनपर दम दिखाना होता है, वहां उनका काम चमकता है. वैसे ये भी एक नोट करने वाली बात है कि गीतांजलि का किरदार संदीप ने उतना कमजोर नहीं लिखा है, जितना कबीर सिंह में प्रीति का था.

एनिमल का सीक्वल भी आएगा

‘एनिमल’ की सोशल मीडिया टीम ने रात में ही फैन्स से रिक्वेस्ट की थी कि ‘फिल्म का पोस्ट क्रेडिट सीन न मिस करें.’ स्पॉइलर न देने की शर्त पर हम आपको सिर्फ इतना ही बता रहे हैं कि पोस्ट क्रेडिट सीन में फिल्म का सीक्वल अनाउंस किया गया है. फिल्म के अंत में इसका टाइटल भी रिवील किया गया है. ‘एनिमल’ के सीक्वल का नाम ‘एनिमल पार्क’ रखा गया है.

ट्रेलर से ही हो गया था साफ

जैसा कि ट्रेलर से ही साफ था, ‘एनिमल’ में रणबीर का किरदार अपने पिता पर हमला करने वाले से बदला लेने पर आमादा है. अपने पिता को बेहद प्यार करने वाला ये किरदार, उनके दुश्मन का गला अपने हाथ से काटने का वादा कर चुका है. लेकिन बदले की कहानियां इतनी जल्दी खत्म नहीं हुआ करतीं.

‘एनिमल’ देखते हुए आपको पता चलेगा कि फिल्म में हीरो और विलेन का कनेक्शन बहुत पुराना है. और इस कनेक्शन के चलते ही इस बदले की इंटेंसिटी भी बहुत तगड़ी है. ‘एनिमल’ के पोस्ट क्रेडिट सीन में डायरेक्टर संदीप रेड्डी वांगा ने सीक्वल को बड़े दमदार तरीके से सेट किया है. इसे देखने के बाद आप भी ‘एनिमल पार्क’ का इंतजार करने लगेंगे.

Latest Posts

-विज्ञापन-

Latest Posts