spot_img
Tuesday, June 25, 2024
-विज्ञापन-

More From Author

Zee Business चैनल के मेहमानों पर SEBI की कार्रवाई के बीच Zee Media ने जारी किया बयान

जी मीडिया (ZEE Media) ने 10 फरवरी को जी बिज़नेस (ZEE Business) चैनल पर आने वाले बाहरी और स्वतंत्र मेहमानों (Independent Guest) की व्यापारिक गतिविधियों में शामिल होने पर स्पष्टीकरण जारी किया। बीएसई फाइलिंग में, कंपनी ने स्पष्ट किया है कि नोटिस प्राप्तकर्ता बाहरी और स्वतंत्र अतिथि हैं, जिनके साथ कंपनी का जी बिजनेस चैनल पर उनके टीवी प्रदर्शन के अलावा कोई संबंध नहीं है। यह भी स्पष्ट किया कि सेबी ने कंपनी के खिलाफ कोई आदेश पारित नहीं किया है।

कंपनी ने आगे कहा कि न तो कंपनी की नोटिस प्राप्तकर्ताओं की किसी भी व्यापारिक गतिविधि में कोई भागीदारी है और न ही सेबी ने कंपनी के खिलाफ कोई आदेश पारित किया है।

संस्था ने कमाया गैरकानूनी लाभ

जी मीडिया का यह बयान तब आया है, जब 8 फरवरी को सेबी ने ज़ी बिजनेस (ZEE Business) चैनल के 15 अतिथि विशेषज्ञों के खिलाफ गैरकानूनी ट्रेडिंग के लिए कार्रवाई के आदेश जारी किए थे। सेबी के अनुसार, संस्थाओं ने ऐसे ट्रेंडों से ₹7.41 करोड़ का गैरकानूनी लाभ कमाया और लाभ को पूर्व समझ के अनुसार अतिथि विशेषज्ञों के साथ साझा किया गया था।

कंपनी ने जारी किया बयान

वहीं, जी मीडिया ने एक बयान में कहा, उपरोक्त मामले में, सेबी (SEBI) ने कंपनी को केवल निम्नलिखित निर्देश दिए हैं। जी मीडिया कॉर्पोरेशन लिमिटेड (Zee Media Corporation Limited) को सभी रिकॉर्ड, दस्तावेज़, सामग्री, वीडियो रिकॉर्ड आदि को संरक्षित और बनाए रखने की सलाह दी गई है।

अगले आदेश तक किसी भी तरीके की सिक्योरिटी खरीद और बिक्री पर रोक

बता दे कि,बाजार नियामक ने अतिथि विशेषज्ञों को ₹7.41 करोड़ का भुगतान करने के लिए भी कहा। सेबी के अनुसार, ये अतिथि विशेषज्ञ 1 फरवरी 2022 से 31 दिसंबर 2022 के बीच ज़ी बिजनेस चैनल पर दिखाई दिए। सेबी ने अपने 127 पेज के आदेश में कहा है कि इस मामले के तथ्य निवेशकों के हितों को नुकसान पहुंचाने के लिए हेरफेर की स्पष्ट योजना को दर्शाते हैं। उन्हें प्रतिभूतियों में स्थिति लेने के लिए गुमराह किया जा रहा है ताकि लाभ कमाने वाले ऐसे निवेशकों की कीमत पर लाभ कमा सकें।

इसके अलावा, सेबी ने सभी 10 संस्थाओं को अगले आदेश तक प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से किसी भी तरीके से प्रतिभूतियों की खरीद, बिक्री या लेनदेन करने से रोक दिया।

ये भी पढ़ें- नोएडा की तर्ज पर 87 गांवों की जमीन में बनेगा NCR का नया शहर, जल्द शुरू होगी जमीन खरीद की प्रक्रिया

Latest Posts

-विज्ञापन-

Latest Posts