spot_img
Wednesday, June 19, 2024
-विज्ञापन-

More From Author

अगर आपकी उम्र है 50 के पार तो हो जाएं सावधान! Diabetic Blindness का हो सकते हैं शिकार

Kanpur News: 50 की उम्र पार करने के बाद डायबिटिक ब्लाइंडनेंस का खतरा तेजी से बढ़ता है। देखा जाए तो 100 में 30-40 प्रतिशत लोग डायबिटिक ब्लाइंडनेंस (Diabetic Blindness) के शिकार होते हैं। चिकित्सकों ने कहा कि अब आर्टिफिशियल कार्निया बनने लगी हैं जो काफी कारगर हैं। देश व विदेश के प्रसिद्ध नेत्र चिकित्सकों ने यूपी के कानपुर में रविवार को आयोजित कनिकाकॉन कॉन्फ्रेंस में नेत्र के सेहत और नुकसान पर विधिवत चर्चा की।

देश के जाने माने नेत्र चिकित्सकों ने लिया भाग

कनिका अस्पताल व कानपुर आप्थाल्मिक सोसायटी की ओर से रविवार को कानपुर के बेनाझाबर स्थित एक होटल में कनिकाकॉन कॉन्फ्रेंस आयोजित की गई। डॉ. शरद बाजपेई ने सबसे पहले नेत्रों की जटिल बीमारियों जिनका नई तकनीक से कनिका हॉस्पिटल में आपरेशन किया गया, उसका सजीव प्रसारण किया। इसके बाद देश के विभिन्न राज्यों से आए नेत्र विशेषज्ञों ने नेत्र समस्याओं का निवारण किया।

डायबिटिक ब्लाइंडनेंस वाले रोगी साल में एक बार जरूर जांच कराएं

If your age is above 50 then be careful! Can become victim of diabetic blindness

कॉन्फ्रेंस में कलकत्ता से आए डॉ. पार्था बिस्वास ने नेत्र रोग व अन्य बीमारियों से होने वाली नेत्र समस्या (Diabetic Blindness) पर जानकारी दी। उन्होंने कहा कि 50 की उम्र के बाद डायबिटिक ब्लाइंडनेंस का खतरा तेजी से बढ़ता है। देखा जाए तो 100 में 30-40 प्रतिशत लोग डायबिटिक ब्लाइंडनेंस के शिकार होते हैं। ऐसे में जरूरत है कि डायबटिक ब्लाइंडनेंस वाले रोगी साल में एक बार जरूर नेत्र चिकित्सक से जांच कराएं। वहीं उन्होंने बताया कि आर्टिफिशियल कार्निया भी अब एक कारगर विधि है। आर्टिफिशियल कार्निया बनाने की शुरूआत हो चुकी है।

स्किल ट्रांस्फर पर नेत्र विशेषज्ञों से की चर्चा

इसके बाद कॉन्फ्रेंस में मौजूद नेत्र चिकित्सकों ने अपनी बात रखी। कोयम्बटूर से आईं डॉ. चित्रा रामामूर्ति, नई दिल्ली के डॉ. राजेंद्र प्रसाद, लखनऊ से डॉ. संजीव गुप्ता, हैदराबाद से डॉ. ऋषि स्वरूप पुणे से डॉ. वर्धमान कनकरिया, बेग्लुरु से डॉ. चित्रा जयदेव, डॉ. वीपीएस तोमर, डॉ. गायत्री आहूजा, डॉ. अनुपम आहूजा ने मौजूद नेत्र विशेषज्ञों से स्किल ट्रांस्फर पर चर्चा की। कॉन्फ्रेंस का उद्घाटन ऑल इंडिया आप्यैल्मिक सोसाइटी के अध्यक्ष नेत्र विशेषज्ञ डॉ. पार्था बिस्वास ने किया।

मोतियाबिंद ऑपरेशन में होने वाली जटिलताओं का निवारण

सचिव डॉ. मोहित खत्री ने मोतियाबिंद आपरेशन में होने वाली जटिलताओं के निवारण के बारे में बताया। कानपुर आप्थाल्मिक सोसायटी की अध्यक्ष डॉ. सोनिया दमेले ने नेत्र विशेषज्ञों के स्किल ट्रांस्फर की सराहना की। इस मौके पर कानपुर आप्थाल्मिक सोसायटी के उपाध्यक्ष डॉ. प्रद्युमन अग्रवाल, डॉ. लोकेश अरोड़ा, सचिव डॉ. पारूल सिंह, डॉ. आरसी गुप्ता, डॉ. दिलप्रीत सिंह, डॉ. सगीता शुक्ला, डॉ. शालिनी मोहन, डॉ. सुकांत पांडेय, डॉ. पल्लवी आदि रहीं।

Latest Posts

-विज्ञापन-

Latest Posts