spot_img
Friday, April 19, 2024
-विज्ञापन-

More From Author

सांसद में सुरक्षा की चूक के बाद झारखंड विधानसभा की सुरक्षा हुई सख्त, 15 दिसंबर से चलेगा शीतकालीन सत्र

15 दिसंबर से झारखंड विधानसभा का शीतकालीन सत्र शुरू हो रहा है। यह शीतकालीन सत्र 15 से लेकर 21 दिसंबर तक चलेगा। सांसद भवन में सूरक्षा चूक के बाद झारखंड विधानसभा के शीतकालीन सत्र के दौरान सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए जा रहे हैं। विधानसभा आने वाले दर्शकों की सघन जांच की जाएगी। मेटल डिटेक्टर के अलावा के वहां मौजूद पुलिसकर्मी मैनुअली भी जांच करेंगे।

विधानसभा सुरक्षा में 5 IPS सहित 1 हजार पुलिसकर्मियों को लगाया जाएगा। ताकि सुरक्षा में सेंध की कोई गुंजाइस नहीं बचेगी। 1 हजार पुलिसकर्मियों में जैप, रैप, इको, आअआरबी, एसआइआरबी की मौजूदगी होगी। साथ ही जिला SSP, सिटी एसपी, ग्रामीण एसपी, ट्रैफिक एसपी सहित मुख्यालय से मिले एक आईपीएस को भी सुरक्षा में लगाया गया है।

शीतकालीन की तारीख आते ही छुट्टी का इंतजार कर रहे अधिकारियों और कर्मचारियों को झटका लगा है। सरकार ने 15 दिसंबर से लेकर 21 दिसंबर के बीच सभी विभागों की अधिकारियों एवं कर्मचारियों की छुट्टी को रद्द कर दिया है। विधानसभा के शीतकालीन सत्र के दौरान अधिकारी और कर्मचारी भी अपनी-अपनी ड्यूटी करेंगे।

हेमंत सरकार की हो सकती है अंतिम शीतकालीन सत्र !

झारखंड की हेमंत सरकार ने 4 साल पूरे कर लिए हैं। 2024 के नवंबर तक झारखंड में विधानसभा चुनाव की संभावना है और यह शीतकालीन सत्र दिसबंर के महीने में हो रहा है। अगर नवंबर में चुनाव होता है तो ऐसे में सभंव है कि हेमंत सरकार की ये अंतिम शीतकालीन सत्र होगी।

इस बार शीतकालीन सत्र में काफी हंगामा हो सकता है। क्यों झारखंड से कांग्रेस राज्यसभा सांसद धीरज साहू के घर IT की छापेमारी हुई जिसमें 200 करोड़ से अधिक कैश मिले हैं। झारखंड भाजपा अध्यक्ष बाबुलाल मरांडी ने इस कैश के तार मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से जुड़े होने की बात कही। वहीं जमीन घोटाला मामले में ED ने मुख्यमंत्री सोरेन को छठी बार समन भेजा और पूछताछ के लिए बुलाया था। भाजपा सत्र के दौरान इन मुद्दों को लेकर हेमंत सरकार पर हावी हो सकती है।

Latest Posts

-विज्ञापन-

Latest Posts