spot_img
Monday, April 15, 2024
-विज्ञापन-

More From Author

न पैसा डूबेगा, न कोई घाटा…, शेयर बाजार में पैसा लगाने से पहले बस अपनाएं ये टिप्स

Investment Tips: शेयर बाज़ार में निवेश करना हर दिन चुनौतियों से भरा होता है। एक दिन लाभ और अगले दिन भारी हानि का डर हमेशा दिमाग में रहता है। निवेशक हर दिन फायदे वाले शेयरों की तलाश में जुटे रहते हैं। लेकिन कई बार नुकसान भी उठाना पड़ जाता है‌। टेक्नोलॉजी के मौजूदा दौर में आपकी ये परेशानी खत्म हो गई, जिसे एल्गो ट्रेडिंग या ऑटोमैटिक ट्रेडिंग या ब्लैक बॉक्स ट्रेडिंग के नाम से जाना जाता है। इसे हाई फ्रीक्वेंसी ट्रेडिंग भी कहा जाता है।

नुकसान को कम करता है एल्गो ट्रेडिंग

एल्गो ट्रेडिंग का बहुत तेजी से चलन बढ़ रहा है। इसका उपयोग ज्यादातर बड़े और संस्थागत निवेशकों यानी ब्रोकरेज हाउस द्वारा किया जाता है। लेकिन अब यह छोटे निवेशकों के बीच भी काफी तेजी से बढ़ रहा है। कुछ ब्रोकरेज हाउस तो यहां तक दावा करते हैं कि अगर इस तकनीक की मदद से बाजार में पैसा लगाया जाए तो नुकसान का जोखिम बहुत कम होता है। हालांकि, जिरोधा के संस्थापक के नितिन कामत का कहना है कि कुछ मामलों में algo trading में नुकसान भी होता है। लेकिन अधिकतर समय उनका अनुमान सही साबित होता है।

Algo trading क्या है

जैसा कि इसके नाम से पता चलता है, एल्गो का मतलब एल्गोरिदम है। जो कंप्यूटर प्रोग्राम की मदद से शेयरों का चयन करने में मदद करता है। इसके सॉफ़्टवेयर में पहले से मौजूद बाज़ार ट्रेडिंग फ़ार्मूले हैं और कंप्यूटर प्रोग्राम द्वारा उन्हें पूरा करने वाले स्टॉक को खरीद कर ऑर्डर स्वचालित रूप से दिए जाते हैं। इसमें खास यह है कि आपको बेहतरीन रिटर्न वाले शेयरों को पकड़ने के लिए खुद को प्रयास करने की जरूरत नहीं होती है।

नुकसान को कैसे रोकें

एल्गो ट्रेडिंग पूरी तरह से मशीन आधारित है जो आपकी भावनाओं के बेस पर नहीं बल्कि मार्केट के रुख के आधार पर तय करता है। इस तकनीक का उपयोग करके आप ऐसे शेयरों का चयन करने से बच सकते हैं जिनमें भविष्य में गिरावट की संभावना हो। ज्यादातर समय निवेशक अपनी भावनाओं के कारण गलत स्टॉक चुन लेते है और नुकसान करवा बैठते हैं‌।

यह भी पढ़ें: NPS SCHEME में निवेश कर INCOME TAX की करें बचत, मासिक पेंशन का भी मिलेगा लाभ

Latest Posts

-विज्ञापन-

Latest Posts