spot_img
Friday, April 19, 2024
-विज्ञापन-

More From Author

SBI के ग्राहकों की संख्या 50 करोड़ के पार, जानें जीरो से हीरो बनने तक का इतिहास

SBI Achivement: भारत के सबसे बड़े सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक ने अपनी सफलता में एक और मील का पत्थर स्थापित कर लिया है। बैंक के ग्राहकों की संख्या 50 करोड़ के पार पहुंच गई है‌। SBI के चेयरमैन दिनेश खारा ने इसे ऐतिहासिक उपलब्धि बताया। एसबीआई ने सोशल मीडिया पर चेयरमैन का संदेश जारी करते हुए कहा कि उसका ग्राहक बेस 50 करोड़ से अधिक हो गया है और ग्राहकों की संख्या अभी भी बढ़ रही है। भारतीय स्टेट बैंक ने इसे ‘The Banker To Every Indian’ नाम दिया।

इस माह की शुरुआत में 7 फरवरी को यह देश का सबसे बड़ा सार्वजनिक लोन देने वाला बैंक बन गया। इसका मार्केट मूल्य 6 लाख करोड़ रुपए पार हो गया। यह भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) के बाद ऐसा करने वाला दूसरा सार्वजनिक क्षेत्र का उपक्रम-पीएसयू बन गया।

SBI का इतिहास

एसबीआई की इस उपलब्धि के साथ हमें इसके इतिहास पर भी नजर डालनी चाहिए कि कैसे एक बैंक देश का इतना बड़ा बैंक बन गया। भारतीय स्टेट बैंक – SBI एक भारतीय बहुराष्ट्रीय सार्वजनिक क्षेत्र का बैंक और वैधानिक वित्तीय सेवा संस्थान है। एसबीआई का मुख्यालय मुंबई में है। कुल संपत्ति के हिसाब से यह दुनिया का 48वां सबसे बड़ा बैंक है। साल 2020 में फॉर्च्यून ग्लोबल की 500 लिस्ट में एसबीआई को 221वां स्थान मिला था। इस सूची में यह एकमात्र भारतीय बैंक है।

एसबीआई की संपत्ति के मामले में बाजार हिस्सेदारी 23% और कुल लोन व जमा बाजार में 25% हिस्सेदारी है। लगभग 2,50,000 कर्मचारियों के साथ भारतीय स्टेट बैंक भारत का 10वां सबसे बड़ा है।

कोलकाता में स्थापित

SBI की नींव कोलकाता में डाली गई। इंपीरियल बैंक ऑफ इंडिया की स्थापना 1806 में कोलकाता में हुई थी। इसके बाद 1955 में बैंकों के राष्ट्रीयकरण की नीति में यह भारतीय स्टेट बैंक (SBI) बन गया। 200 से अधिक वर्षों के इतिहास में भारतीय स्टेट बैंक में 20 से अधिक बैंकों का विलय हो चुका है।

यह भी पढ़ें: PAYTM ने किया ऐलान, इस तारीख को बंद हो जाएगा फास्टैग, जानिए कब तक चलेगा वॉलेट?

Latest Posts

-विज्ञापन-

Latest Posts