spot_img
Sunday, June 16, 2024
-विज्ञापन-

More From Author

Parenting Tips: खुद से बातें कर रहा है आपका बच्चा, तो जानिए क्या है फायदे

Parenting Tips: कठिन परिस्थितियों में लोग खुद से बात करते हैं। बच्चे भी आपस में बातें करते हैं. क्या अकेले में खुद से कुछ कहकर प्रतिक्रिया देना उनके लिए सामान्य है? दिल्ली में रहने वाली रीना की बेटी सौम्या दूसरे बच्चों से उतनी बात नहीं करती, जितनी खुद से बात करती है। रीना ने कई Parenting Tips बार सौम्या को समझाया, लेकिन वह खुद से ही बात करती रहती थी। रीना इससे परेशान थी, इसलिए उसने अपनी सहेली हेमलता से यह परेशानी साझा की।

स्वतंत्रता की भावना

जब बच्चे आपस में बात करते हैं तो उनके कई फायदे होते हैं। यह उनके आत्म-संचार कौशल को विकसित करता है, जिसके परिणामस्वरूप उनमें स्वतंत्रता और स्वतंत्रता की भावना विकसित होती है। साथ ही इससे उनकी सोचने-समझने की क्षमता बढ़ती है और वे अपनी समस्याओं और परिस्थितियों को खुद ही सुलझाना सीखते हैं, जो भविष्य में मददगार साबित हो सकता है।

मन में अपने विचार

जो बच्चे आपस में बात करते हैं वे अपने विचारों को स्पष्ट रूप से व्यक्त करने में सक्षम होते हैं। मन में अपने विचार बोलकर बच्चे उन्हें सरल शब्दों में व्यक्त करना भी सीखते हैं। इसके अलावा, वे अपने विचार खुलकर व्यक्त करना भी सीखते हैं, वह भी बिना किसी डर के। इतना ही नहीं, बच्चों का आपस में बात करना उन्हें एक मिलनसार व्यक्ति के रूप में विकसित होने में भी मदद करता है, जिसका अर्थ है कि वे भविष्य में किसी भी अन्य व्यक्ति से आसानी से बात कर सकते हैं।

मानसिक रूप से स्वस्थ

जो बच्चा खुद से बात करता है, उसमें अपनी सोच को स्थिर करने की क्षमता होती है, जिससे उसके व्यक्तित्व का विकास होता है। इससे यह भी पता चलता है कि आपका बच्चा मानसिक रूप से स्वस्थ है और बुद्धिमान भी है। खुद से बात करने से उन्हें सकारात्मक और नकारात्मक विचारों को समझने में भी मदद मिलती है। इतना ही नहीं, बच्चों के आपस में बात करने से उनके दिमाग को तार्किक रूप से काम करने में भी मदद मिलती है।

Latest Posts

-विज्ञापन-

Latest Posts