spot_img
Friday, April 19, 2024
-विज्ञापन-

More From Author

Intermittent Fasting: आंतरायिक उपवास जो पेट की चर्बी कम करता है, कैंसर के खतरे को कम कर सकता है: जानें क्या कहती है रिपोर्ट

Intermittent Fasting: पेट की चर्बी कम करने या तेजी से वजन कम करने के लिए Intermittent Fasting समेत कई ट्रेंडी तरीके अपनाए जा रहे हैं। वजन बढ़ने से परेशान लोग वर्कआउट ट्रिक्स और महंगे डाइट प्लान फॉलो करते हैं। ये तरीके कारगर साबित हो सकते हैं लेकिन हर चीज के फायदे के साथ नुकसान भी होते हैं। यहां हम बात कर रहे हैं Intermittent Fasting की, जिसके बारे में डेली मेल में एक रिपोर्ट छपी है। चूहों पर किए गए शोध में पाया गया कि Intermittent Fasting के कारण वाइट ब्लड सेल्स को 90 फीसदी नुकसान हुआ। ये कोशिकाएं सूजन और बीमारियों से लड़ने में उपयोगी होती हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है कि उपवास करने से हृदय रोग और कैंसर जैसी बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। डॉ फिलिप स्वियर्सकी न्यूयॉर्क शहर के एक अस्पताल में प्रतिरक्षाविज्ञानी हैं। डॉ. फिलिप कहते हैं, ‘चूंकि प्रतिरक्षा कोशिकाएं बीमारियों से लड़ने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं, इसलिए उन्हें नुकसान से बचाना चाहिए। साथ ही उनके काम करने के तरीके को भी समझना चाहिए।

Intermittent Fasting में लोग घंटों भूखे रहते हैं और इसमें कई दिनों तक नाश्ता छोड़ना भी शामिल है। डॉक्टरों का मानना है कि नाश्ता न करने की आदत डायबिटीज का मरीज भी बना सकती है। हॉलीवुड एक्ट्रेस जेनिफर एंटिसन भी Intermittent Fasting का रूटीन फॉलो करती हैं।

डॉ. फिलिप कहते हैं कि उपवास का तरीका तो चलन में है लेकिन इसके अपने नुकसान भी हैं। रिसर्च में चूहों को दो भागों में बांटा गया, जिसमें एक समूह को सामान्य भोजन पर रखा गया जबकि दूसरे को उपवास पर रखा गया। वैज्ञानिकों ने शोध में पाया कि बॉर्न मैरो में मौजूद श्वेत रक्त कोशिकाओं में संक्रमण हो गया है, जिससे हृदय और कैंसर जैसी बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है।

शोध कविताएं कहती हैं कि वजन घटाने के लिए उपवास का पालन करना अच्छा है लेकिन इसकी अधिकता घातक साबित हो सकती है। इस रूटीन को अपनाने से पहले किसी विशेषज्ञ से सलाह लेना जरूरी है।

Latest Posts

-विज्ञापन-

Latest Posts